मतदान प्रक्रिया को पारदर्शी बनाने के लिए राजधानी में शुरू मोबाइल बूथ’ योजना

0
9
मतदान प्रक्रिया को पारदर्शी बनाने के लिए राजधानी में शुरू मोबाइल बूथ’ योजना

नई दिल्ली। चुनाव आयोग ने बुधवार को राजधानी में मतदान प्रक्रिया को और पारदर्शी बनाने के लिए मोबाइल बूथ’ योजना की शुरुआत की। मोबाइल बूथ योजना फिलहाल पूर्वी दिल्ली के लिए स्टॉर्ट की गई है। इस मोबाइल बूथ में ईवीएम, बैलेट यूनिट एवं वीवीपीएडीइस मोबाइल बूथ में लगा हुआ है और यह मोबाइल बूथ पूर्वी दिल्ली की सभी 10 विधानसभा क्षेत्रों में 324 जगह जाएगा। लोगों को जागरूक करने के लिए मतदाताओं से वोट भी डलवाया जाएगा। वोट डालने के बाद उसे एक पर्ची भी मिलेगी, जिससे मतदाताओं का यह भ्रम दूर हो सकेगा कि उसने वोट किसे दिया। अभी दिल्ली में करीब 1.37 करोड़ मतदाता हैं।

जल्द जारी होगा हेल्प लाइन नंबर

दिल्ली मुख्य निर्वाचन अधिकारी रणवीर सिंह ने बताया कि इसके लिए जल्द ही 1950 हेल्पलाइन नंबर जारी किया जाएगा। इसका सेंट्रेलाइज्ड नंबर 1950 है। दिल्ली के मतदाता सीधे इसी नंबर पर कॉल कर सकते हैं, जबकि देश के दूसरे हिस्से के लोगों को दिल्ली का एसटीडी नंबर 011-1950 लगाना होगा।  हालांकि यह नंबर पहले से ही चल रहा है| इस नंबर पर देशभर के मतदाता फोन करके मतदाता संबंधी जानकारी, मतदाता सूची संबंधी जानकारी एवं किसी अधिकारी से जुड़ी शिकायत दर्ज करा सकते हैं। हालांकि यह नंबर पहले से ही चल रहा है। पूर्वी जिला निर्वाचन अधिकारी के महेश ने बताया कि मोबाइल बूथ योजना की शुरुआत फिलहाल पूर्वी दिल्ली से की गई है। यह मोबाइल बूथ पूर्वी दिल्ली संसदीय के सभी 1844 पोलिंग स्टेशन पर जायेगा और वहां के लोगों ने वोट भी डलवाया जाएगा।

18 जनवरी के जारी  होगी फाइनल मतदाताओं की  सूची

मुख्य चुनाव अधिकारी ने कहा कि राजधानी के मतदाताओं की विशेष फाइनल मतदाता सूची 18 जनवरी के जारी की जाएगी। इसके बाद पुन: नए नाम जोड़ने का काम शुरू होगा। अभी दिल्ली में करीब 1.37 करोड़ मतदाता हैं। रणवीर सिंह ने बताया कि दिल्ली चुनाव कार्यालय ने इस प्रक्रिया को पारदर्शी बनाए रखने के लिए हर राजनीतिक दल को बूथ लेवल एजेंट (बीएलए) नियुक्त करने को कहा था। दिल्ली के 13,816 बूथों पर तीन दलों को कुल करीब 41,000 बीएलए की नियुक्ति करनी थी, लेकिन अभी तक तीन हजार बीएलए ही तैनात किए गए हैं। उन्होंने बताया कि राजधानी के मॉल्स में भी कियोस्क लगाकर लोगों को जागरूक किया जाएगा। चुनाव अधिकारी ने दावा किया कि यह वीवीपीएडी मशीन पूरी तरह से सुरक्षित है। इससे छेड़छाड़ नहीं की जा सकती है। छेड़छाड़ करने पर यह फैक्टरी मोड में चली जाएगी।