स्मार्ट पार्किंग का निर्माण कार्य निजी कंपनी को दे दिया गया है

0
16
स्मार्ट पार्किंग का निर्माण कार्य निजी कंपनी को दे दिया गया है
स्मार्ट पार्किंग का निर्माण कार्य निजी कंपनी को दे दिया गया है

भोपाल | नगर निगम के द्वारा भोपाल शहर के न्यू मार्केट की स्मार्ट पार्किंग का निर्माण कार्य तो प्राइवेट कंपनी को दे दिया गया है परंतु उस पर नगर निगम प्रशासन का प्राइवेट कंपनी पर किसी भी प्रकार का कोई नियंत्रण नहीं है इसकी वजह है कि किसी भी व्यक्ति की गाड़ी चोरी हो जाने के मामले में पुलिस को किसी भी प्रकार का कोई भी वीडियो फुटेज तथा अन्य किसी भी प्रकार का कोई भी सुराग प्राप्त नहीं होता है |

टीटी नगर क्षेत्र में पुलिस के द्वारा शुक्रवार के दिन को FIR दर्ज कि गई थी परंतु उसके पश्चात भी किसी भी प्रकार कि कोई कठिन कार्यवाही नहीं हो पाई विशेषत स्मार्ट पार्किंग वाली माइंडटेक प्राइवेट कंपनी का नियंत्रण रूम बेंगलुरु में तथा कंपनी की स्थानीय ऑफिसर सोनिया पाठक जी इस समय छुट्टी पर है ऐसे समय में यह प्रश्न खड़ा होता है कि आखिरकार यह नियंत्रण रूम भोपाल शहर में स्थापित क्यों नहीं हो सकता |

वह भी तब जब कि स्मार्ट सिटी प्राइवेट कंपनी का स्वयं का इंटीग्रेटेड नियंत्रण और कमांडर केंद्र तैयार है तथा इससे भोपाल शहर सहित राज्य के 7 जिलों की अन्य सुविधाओं को भी जोड़ा जा सकता है प्राइवेट कंपनी ने लगभग 300 करोड रुपए की लागत लगाकर आईसीसीसी तैयार करवाया है आईसीसीसी मैं जिले के वाहनों के साथ में फायर ब्रिगेड तथा पुलिस के साधनों जैसी सेवाओं के साथ में पब्लिक ट्रांसपोर्ट पर भी नजर रखी लग जाएगी |

ढाई माह पूर्व शुभारंभ हुए इस आईसीसीसी की पूर्ण शक्ति का इस समय तक सही उपयोग नहीं किया जा रहा है साधनों के चोरी होने की इस घटना से स्मार्ट पार्किंग की बहुत बड़ी खामी उजागर हो रही है केवल प्राइवेट कंपनी के कंट्रोल में होने से नगर निगम तथा दूसरी किसी प्रकार की कंपनी किसी भी  प्रकार की कार्यवाही करने में पूर्ण सक्षम नहीं है |

शेयर करें
Shivani Jain
शिवानी रोजगार रथ में रिपोर्ट है। शिवानी ने राजनीति, बिजनेस और अन्य न्यूज़ से संबंधित कई न्यूज़ लिखी है। उन्होंने वर्ष 2014 से रिपोर्टिंग शुरू की थी। दो साल के बाद शिवानी ने वर्ष 2016 से रोजगार रथ में काम करना शुरू किया।