सुमंगला योजना : पूरी होगी बेटियों की सभी मनोकामना, मिलेगा शिक्षा को बढ़ावा

0
23
सुमंगला योजना : पूरी होगी बेटियों की सभी मनोकामना, मिलेगा शिक्षा को बढ़ावा

वाराणसी। बेटियों की दशा में बदलाव लाने के लिए सरकार द्वारा प्रदेश में कन्या सुमंगला योजना लागू किए जाने का निर्णय लिया गया है। बेटियों और महिलाओं की स्वास्य और शिक्षा की महत्ता को समझते हुए कई विभागों के सहयोग से कन्या सुमंगला योजना के रूप में नयी पहल की जा रही है।

इस योजना से बालिका शिक्षा को बढ़ावा मिलेगा साथ ही उन्हें आवश्यक टीके लग जाने से कई जानलेवा बीमारियों से भी सुरक्षा प्रदान होगी। उत्तर प्रदेश शासन की प्रमुख सचिव मोनिका एस. गर्ग ने प्रदेश के सभी जिलाधिकारियों, अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं परिवार कल्याण, बाल विकास, माध्यमिक शिक्षा, बेसिक शिक्षा सहित महिला कल्याण निदेशालय को पत्र जारी कर योजना को क्रियान्वित करने के लिए निर्देश जारी किया है।

छह श्रेणियों में लागू होगी कन्या सुमंगला योजना :

बालिका के जन्म होने पर 2000 रु पए एकमुश्त-बालिका के एक वर्ष तक के सभी टीका लग जाने के बाद 1000 रु पए, कक्षा प्रथम में बालिका के प्रवेश के उपरांत 2000 रु पए, कक्षा छह में बालिका के प्रवेश के उपरांत 2000, कक्षा नौ में प्रवेश के उपरांत 3000 रु पए दिया जायेगा। इसके अलावा ऐसी बालिकाएं जिन्होने कक्षा 12वीं पास करके स्नातक अथवा दो वर्षीय या अधिक अवधि के डिप्लोमा कोर्स में प्रवेश लिया हो 5000 रु पए एकमुश्त मिलेगा।

किसे मिलेगा लाभ :

बालिका का जन्म पहली अप्रैल 2019 व उसके बाद संस्थागत अथवा प्रशिक्षित स्वास्य कार्यकर्ता द्वारा हुआ हो, बालिका की जन्म तिथि से छ्ह माह के भीतर आवेदन किया जाना अनिवार्य है, लाभार्थी उत्तर प्रदेश का निवासी हो, पारिवारिक वार्षिक आय अधिकतम तीन लाख हो, परिवार की अधिकतम दो ही बच्चियों को योजना का लाभ मिल सकेगा, किसी महिला को पहले प्रसव से बालिका है और दूसरे प्रसव से दो जुड़वा बालिकाएं होती हैं तो तीनों बालिकाएं इस योजना की पात्र होंगी।

आवेदन कैसे करें :

आवेदन फार्म खंड विकास अधिकारी, एसडीएम, जिला परिवीक्षा अधिकारी, कन्या सुमंगला पोर्टल से निशुल्क प्राप्त किए जा सकते हैं। फार्म के साथ आवश्यक अभिलेख मेंबैंक खाते के पासबुक की छाया प्रति, निवास प्रमाणपत्र, फोटो पहचान पत्र, आय प्रमाण पत्र देना होगा।

शेयर करें
Avatar
रश्मी शाह रोजगार रथ में सहायक संपादक है। इससे पहले इन्होंने आजतक अखबार के लिए उप संपादक का काम किया है। हरीभूमी अख़बार में लेखन का काम भी किया है। रश्मी ने मीडिया प्रबंधन के क्षेत्र में दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातक की डिग्री ली है।