गांव का ऐसा सरकारी स्कूल जहां लगती है 365 दिन कक्षाए

0
43
गांव का ऐसा सरकारी स्कूल जहां लगती है 365 दिन कक्षाए
गांव का ऐसा सरकारी स्कूल जहां लगती है 365 दिन कक्षाए

रायपुर | बिन अक्षर सब सून | आज विश्व साक्षरता दिवस है शिक्षा के विशेष महत्व को समझने तथा आत्मसात करने का विशेष दिन है छत्तीसगढ़ राज्य केभरूवाडीह कला गांव में स्थित सरकारी विधालय के अध्यापक तथा छात्र इस मामले में हम सभी से बहुत आगे हैं यहां बिना छुट्टी के वर्ष के 365 दिन तक पढ़ाई चलती रहती है छत्तीसगढ़ राज्य की राजधानी रायपुर से तिल्दा विकासखंड में स्थित इस गांव का सरकारी पूर्व माध्यमिक स्कूल रविवार के दिन को भी खुलता है |

दिवाली का त्यौहार अथवा होली का त्यौहार, रात की हो अथवा ईद, बैसाखी हो अथवा क्रिसमस, विधालय की घंटी रोजाना बजती है वर्ष के 365 दिन ज्ञान की गंगा अबाध रूप से बहती है, बहती रहती है यह सब हो पाया यहां के ग्रामीण लोगों की शिक्षा के प्रति गहरी समझ के कारण तीन साल हो गए इस शासकीय विधालय में किसी भी दिन अवकाश नहीं हुआ |

रविवार का दिन, होली का त्योहार, दिवाली का त्यौहार को जब पूरे देश भर के अन्य विधालय, विश्वविधालयों तथा कार्यालयों में सन्नाटा छाया रहता है, इस विधालय में छात्रों की आवाज गूंजती है एक हजार की आबादी वाले इस गांव विधालय में 54 छात्र पढ़ते हैं |

तीन वर्ष पहले यहां सभी अलग कक्षाओं में छह विषयों को पढ़ाने वाले केवल दो अध्यापक थे अध्यापकों की कमी के कारण पढ़ाई प्रभावित हो पा रही थी तब विधालय के अध्यापक दिनेश कुमार वर्मा द्वारा गांव के सरपंच के सामने प्रस्ताव रखा गया कि अगर गांव वाले चाहे तो इस विधालय को हम रोज खोल सकते हैं |

गांव के लोगों द्वारा सहमति दी गई तथा अध्यापक दिनेश ने रोजाना पाठशाला जाने की जिम्मेदारी ले ली वह 12 किलोमीटर की दूरी तय कर हर दिन पाठशाला में उपस्थित होते हैं किसी दिन वह कुछ आवश्यक कारणवश पाठशाला नहीं आते हैं तो गांव के किसी शिक्षित व्यक्ति को यह जिम्मेदारी दे दी जाती है रविवार के दिन तथा त्यौहार के दिन भी छात्रों की कक्षा लगाकर उनके प्रभावित पाठ्यक्रम को पूर्ण किया जाता है |

शेयर करें
Avatar
राजेश्वरी रोजगार रथ में पत्रकार के पद पर कार्यरत है। राजेश्वरी ने जनसंचार में स्नातक की पढाई की है। वह इससे पहले हरिभूमि समाचार पत्र के साथ-साथ अन्य स्थानीय समाचार प्रकाशन में काम किया है। अन्य समाचार पत्रों में काम करने के बाद राजेश्वरी वर्ष 2016 से रोजगार रथ में कार्यरत है।