बेटियों के लिए कन्या सुमंगला योजना में किया गया 1200 करोड़ का प्रावधान

0
28
बेटियों के लिए कन्या सुमंगला योजना में किया गया 1200 करोड़ का प्रावधान

उत्तरप्रदेश राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बताया कि साल 2019- 2020 में उत्तर प्रदेश का सबसे बड़ा बजट है। पिछली बार की अपेक्षा 11.98 फीसदी अधिक धन विकास के कार्यों के लिए दिया गया है। सबसे बड़ी बात तो यह है कि यह बजट समाज के सभी प्रकार के वर्गों के लोगों को ध्यान में रख कर प्रस्तुत किया गया है। प्रदेश सरकार के इस बजट में जनसमस्या निवारण से लेकर उत्तर प्रदेश में निवेश और विकास की नई बयार बहाने के लिए 4,79,701.10 करोड़ रुपये का बजट पारित किया गया है। जो कि वर्ष 2018-2019 के बजट के मुकाबले 11.98 प्रतिशत अधिक है। इसमें 21,212.95 करोड़ रुपये की नई योजनाओं को शामिल किया गया है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गुरुवार को लोकभवन में पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि यह वही प्रदेश है, जब कभी तीन जिलों में बिजली रहती थी। अब सभी 75 जिलों में समान रूप से बिजली पहुंचाई जा रही है। आजादी के बाद जिन लोगों ने बिजली के दर्शन नहीं किए गए थे, हमने डेढ़ साल में विद्यतीकरण का काम पूरा किया। गरीब परिवारों को निशुल्क बिजली मुहैया करवाई गई है। इस क्षेत्र में अभी भी काम युद्ध स्तर पर है। इसके बजट में 20.21 फीसदी की वृदिध की गई है। इसके साथ ही बेटियों के लिए कन्या सुमंगला योजना में 1200 करोड़ का प्रावधान किया गया है। युवाओं को रोजगार देने के साथ साथ यूपी में बदहाल मदरसों का पहली बार जीर्णोद्धार होने जा रहा है। इसके लिए प्रदेश सरकार ने 459 करोड़ रुपये का इंतजाम किया है। जिससे मदरसों में पढ़ने वाले छात्रों को अब बेहतर सुविधा और शिक्षा हासिल हो सकेगी। प्रदेश में सड़कों का जाल बिछाने के लिए हमने लोक निर्माण विभाग के बजट में 12.62 फीसदी की बढोत्तरी की है।

मुख्यमंत्री ने कहा है कि देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बार-बार कहते हैं कि किसानों की आय को दोगुना बढ़ाना चाहिए, जिससे किसानों के चेहरे पर मुस्कान आ सके। जिससे वर्ष 2022 तक उनकी आय को दोगुना किया जा सके, इसके लिए बजट में पूरा इंतजाम किया गया है। सिंचाई विभाग के लिए उपलब्ध कराई गयी धनराशि में लगभग 11 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। किसानों के लिए स्वाभाविक रूप से नई तकनीकी के साथ साथ सिंचाई की व्यवस्था बहुत आवश्यक है। यहां 1974 और 1980 की परियोजनाएं लंबित थीं, गत वर्ष बाण सागर परियोजना को पूरा किया।

योजना आयोग ने 1973 में योजना तैयार की थी औऱ 1978 में तत्कालीन प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई ने शिलान्यास किया था। लेकिन यह योजना पूरी नहीं हो सकी। इस योजना को हमने पूरा किया। इसे 15 जुलाई को हमने प्रधानमंत्री जी से परियोजना को राष्ट्र को समर्पित करवाया। इसमें 1.50 लाख हैक्टेअर जमीन की सिंचाई हो सके। जिससे किसानों के चेहरे पर मुस्कान आई।

शेयर करें
Avatar
शिवानी रोजगार रथ में रिपोर्ट है। शिवानी ने राजनीति, बिजनेस और अन्य न्यूज़ से संबंधित कई न्यूज़ लिखी है। उन्होंने वर्ष 2014 से रिपोर्टिंग शुरू की थी। दो साल के बाद शिवानी ने वर्ष 2016 से रोजगार रथ में काम करना शुरू किया।