पेट्रोल पंप 4 महीने से बंद किसानों को होगी किल्लत

0
322

गीदम-दंतेवाड़ा मार्ग पर कारली में संचालित पुलिस कल्याण पेट्रोल पंप के 4 माह से बंद पड़े होने से लोगों की मुश्किल बढ़ गई है। इससे जिला मुख्यालय के चितालंका स्थित पेट्रोल पंप पर ग्राहकों का दबाव बढ़ गया है। इस पंप पर बिजली गुल रहने या मशीन खराब होने की स्थिति में पेट्रोल डीजल के लिए 12 किमी दूर गीदम जाना पड़ रहा है। इस बीच मानसून सीजन भी करीब आ चुका है। मानसून आगमन के बाद खेतों की जुताई और किसानी संबंधी दूसरे कार्यो के लिए डीजल की खपत बढ़ जाती है।

ऐसे में एक पेट्रोल पंप के बंद रहने का खामियाजा किसानों को भुगतना पड़ सकता है। अब तक नहीं हुई पंप की सफाई कारली के पुलिस कल्याण पेट्रोल पंप में इसी साल 21 जनवरी को पेट्रोल के नोजल से डीजल निकलने लगा था, जिससे घंटे भर में करीब 100 से ज्यादा बाइक की टंकियों में गलती से पेट्रोल की जगह डीजल डाल दिया गया था। टैंकर से पंप के चैंबर में डीजल-पेट्रोल अनलोडिंग के वक्त हुई चूक के चलते ऐसा हुआ था। गलती का पता चलने पर पंप को बंद कर दिया गया, तब से इसकी सफाई नहीं हो सकी है।

चार माह से पंप बंद रहने से संचालक संस्था पुलिस कल्याण समिति को रोजाना हजारों रुपए का नुकसान उठाना पड़ रहा है। इस बारे में 9 वीं बटालियन सीएएफ के कमांडेंट एसएल बघेल का कहना है कि पेट्रोलियम कंपनी ने पंप की सफाई के लिए अब तक टेक्नीशियन नहीं भेजा है। आज-कल करते 4 माह हो गए हैं। पंप में अनलोडिंग में हुई गलती से नुकसान की भरपाई अब कंपनी करेगी।

शेयर करें
Mukesh Srivastava
मुकेश श्रीवास्तव रोजगार रथ में संपादक के पद पर कार्यरत है। रोजगार रथ में मुकेश खेल जगत से जुडी खबरे लिखते है। वह कई न्यूज़ वेबसाइट के लिए काम कर चुके है। मुकेश ने अपनी पढाई NIT कॉलेज से पूरी की है। NIT से पढाई पूरी करने के बाद उन्होंने न्यूज़ वेबसाइट के लिए काम करना शुरू किया।