मध्यप्रदेश सरकार नहीं दे रही है गरीब परिवारों को उनका हक़

0
8
Madhya Pradesh government ,pension, Social Security Pension, poor family

भोपाल। मध्यप्रदेश सरकार करीब 2 लाख करोड़ के कर्ज में चल रही है जिसके कारण सरकार का खजाना फिर से खाली होता जा रहा है। अब तो मध्यप्रदेश सरकार के ऐसे दिन आए गए है कि लोन लेकर कर्मचारियों को सैलरी बांट रही है| आपको बता दे कि मध्यप्रदेश सरकार के पास इस बार गरीबों को सामाजिक सुरक्षा पेंशन बांटने के लिए भी पैसे नहीं बचे। गरीबों को यह पेंशन महीने की 1 से 5 तारीख के बीच दी जाती है , लेकिन अभी तक मार्च महीने की पेंशन तक खातों में नहीं पहुंची है।

वैसे भी शनिवार व रविवार को दो दिन अवकाश पड़ गया है। अब तो यह पेंशन सोमवार के बाद ही आएगी। बताया जा रहा है कि सरकार के पास प्राप्त मात्रा मे बजट नहीं होने के कारण पेंशन के भुगतान में देरी हुई है। सही समय पर पेंशन ना मिलने से सामाजिक सुरक्षा पेंशनधारी परेशान हो रहे हैं। बता दें कि सामाजिक सुरक्षा पेंशन 21 श्रेणियों में दी जाती है। इसके लिए हर महीने करीब 250 करोड़ रुपए के बजट की जरूरत पड़ती है। यह राशि सभी 21 श्रेणियों के पात्र हितग्राहियों को मिलती है। सूत्रों की माने तो आर्थिक संकट से जूझ रही सरकार को मार्च महीने की पेंशन के लिए बजट जुटाने में समय लग गया है। इसके कारण तय तारीखों में पेंशन का भुगतान नहीं हो पाया है।

सामाजिक न्याय विभाग के अधिकारियों का कहना है कि नए वित्तीय वर्ष के कारण पेंशन भुगतान में समय लगा है। बजट की कोई कमी नहीं है। बिल लगा दिए गए हैं। जल्दी ही पेंशन का भुगतान किया जाएगा । इस संबंध में सामाजिक न्याय एवं नि:शक्तजन कल्याण मप्र के संचालक केजी तिवारी से बात की तो उन्होंने आचार संहिता के चलते कुछ भी कहने से मना कर दिया।

भोपाल के करोंद निवासी कमला बाई ने बताया कि उन्हें सामाजिक सुरक्षा पेंशन के तहत विधवा पेंशन मिलती है। इसमें उन्हें 300 रुपए प्रतिमाह मिलते हैं। फरवरी की पेंशन 2 मार्च को खाते में आ गई थी, लेकिन मार्च महीने की पेंशन अभी तक नहीं आई है। कमला बाई का कहना है कि सामाजिक सुरक्षा पेंशन 1000 रुपए करने की घोषणा करने वाली सरकार पूर्व से मिल रही पेंशन ही समय पर नहीं दिलवा पा रही है।