मध्यप्रदेशके शिक्षा पद्धिती में बड़ा बदलाव ,कॉलेजो में होगा अब सेमिस्टर सिस्टम ख़त्म

0
116

मध्यप्रदेश के सभी शासकीय और प्राइवेट कॉलेज में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की माँग पर अगले सत्र से सेमिस्टर सिस्टम को ख़त्म कर दिया जायेगा और पुनः सालाना परीक्षा लेने वाले सिस्टम को लागू किया जायेगा। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के सदस्यों ने मंगलवार को भारी मात्रा में भोपाल पहुँच कर प्रदर्शन किया।

प्रदर्शन को देखते हुये उच्च शिक्षा मंत्री जयभान सिंह पवैया ने घोषणा कि अगले सत्र से सभी यूजी और पीजी में सेमिस्टर सिस्टम को बंद किया जायेगा और पुनः सालाना परीक्षा लेने वाली पद्धिती को शुरू किया जायेगा। वर्ष 2008 -09 में मध्यप्रदेश में शिक्षा के स्तर को बड़ाने के लिये राज्य सरकार ने सालाना परीक्षा पद्धिती को समाप्त करके  सेमिस्टर सिस्टम शुरू किया था अब हम पुनः 8 साल पीछे जा रहे है।

लेकिन क्या इस सेमिस्टर सिस्टम के ख़त्म होने से छात्रों को फायदा होगा या फिर नुकसान टीचरों के अनुसार सेमिस्टर सिस्टम के कई फायदे है सेमिस्टर सिस्टम के द्वारा साल में छात्रों को दो बार परीक्षा तो देनी पड़ती थी लेकिन उनको थोड़ा -थोड़ा ही पढ़ कर ये परीक्षा देनी होती थी जबकि सालाना परीक्षा में सिलेबस बहुत ज्यादा होता है और छात्रों को ज्यादा पढ़ना पड़ता है सेमिस्टर सिस्टम की अपेक्षाकृत।

सेमिस्टर सिस्टम के दौरान यदि किसी छात्र को किसी विषय में ऐटीगेटी आ जाती है तो वह अगले सेमिस्टर में उसकी परीक्षा दे कर पास हो जाते है परंतु सालाना परीक्षा में उनको उसके लिए 1 वर्ष का इंतजार करना पड़ता है।

उदहारण के लिये यदि किसी को 5 या 6 सेमिस्टर में ऐटीगेटी आती है तो वह अगले सेमिस्टर में उसको देकर अपनी डिग्री या डिप्लोमा आसानी से पूरा कर सकता है पर यदि सालाना परीक्षा में उसे अंतिम वर्ष ऐटीगेटी आती है तो उसको पुरे एक वर्ष का इंतजार करना पड़ेगा अपनी डिग्री या डिप्लोमा को पूरा करने में।

शेयर करें
Rajeshwari Tripathi
राजेश्वरी रोजगार रथ में पत्रकार के पद पर कार्यरत है। राजेश्वरी ने जनसंचार में स्नातक की पढाई की है। वह इससे पहले हरिभूमि समाचार पत्र के साथ-साथ अन्य स्थानीय समाचार प्रकाशन में काम किया है। अन्य समाचार पत्रों में काम करने के बाद राजेश्वरी वर्ष 2016 से रोजगार रथ में कार्यरत है।