गरीब रथ एक्सप्रेस घंटो देरी से चलने के कारण हो सकती है बंद

0
40
गरीब रथ एक्सप्रेस घंटो देरी से चलने के कारण हो सकती है बंद

भागलपुर | झारखंड राज्य में चलने वाली गरीब रथ एक्सप्रेस ट्रेन जो भागलपुर से आनंद विहार की ओर जाती है देरी से चलने के कारण कभी भी बंद हो सकती है | यह ट्रेन मालदा डिवीजन की सभी ट्रेनों में चलने वाली एक ऐसी ट्रेन है जो सबसे लेट चलती है इसे रेल मंत्रालय द्वारा लेट चलने वाली ट्रेनों की सूची में नंबर एक पर जारी कर दिया है |

रेल मंत्रालय ने पिछले 3 महीने से लेट चलने वाली ट्रेनों की सूची तैयार की है जिसमें गरीब रथ एक्सप्रेस प्रथम नंबर पर है जिसे कभी भी बंद किया जा सकता है | पिछले 3 महीने की रिपोर्ट के अनुसार पता चला है कि यह ट्रेन प्रतिदिन 15 घंटे की देरी से चल रही है जिसकी वजह से ट्रेन पर बादल गहराता नजर आ रहा है |

1 सप्ताह पहले ही रेल मंत्री ने सभी जोनो के अधिकारियों को चेतावनी दी थी कि यदि रेल मंत्रालय की तरफ से कोई भी ट्रेन लेट हुई तो उसके जिम्मेदार अधिकारियों को प्रमोशन नहीं दिया जाएगा ऐसा आदेश होने के बाद भी भागलपुर रूट पर चलने वाली कुछ ट्रेन है जैसे विक्रमशिला एक्सप्रेस, ब्रह्मपुत्र एक्सप्रेस इन ट्रेनों के टाइम को सुधारने के लिए रेल मंत्रालय लग गया है |

रेल मंत्रालय के अधिकारियों ने बताया है कि इन ट्रेनों के टाइम को सुधारने के लिए गरीब रथ को बंद कर दिया जाएगा क्योंकि यह ट्रेन अत्यधिक लेट चलती है जिसकी वजह से यात्रियों को भी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है |

अधिकारियों ने बताया है कि एनसीआर जोन में कानपुर के निकट ट्रेन रूट अधिक होने का कारण ट्राफिक अधिक होता है जिसकी वजह से बिहार से आने वाली ट्रेन कई घंटों तक लेट रहती हैं विक्रमशिला एक्सप्रेस का टाइम सही होने के बाद भी कानपुर के पास कई घंटों तक खड़ी रहती है और राजधानी एक्सप्रेस के निकलने के बाद ही विक्रमशिला एक्सप्रेस को अलीगढ़ के पास से निकाला जाता है |

यात्री द्वारा बताया गया कि विक्रमशिला एक्सप्रेस कुछ दिन पहले सही टाइम पर आने लगी थी लेकिन गरीब रथ एक्सप्रेस की टाइमिंग अभी भी पहले जैसी ही है जो घंटों तक लेट चलती है एक्सप्रेस ट्रेनों की टाइमिंग को सही करने के लिए गरीब रथ एक्सप्रेस को लेट ही खोला जाता है जिसकी वजह से वह और लेट चलती है |

 

शेयर करें
Rashmi shah
रश्मी शाह रोजगार रथ में सहायक संपादक है। इससे पहले इन्होंने आजतक अखबार के लिए उप संपादक का काम किया है। हरीभूमी अख़बार में लेखन का काम भी किया है। रश्मी ने मीडिया प्रबंधन के क्षेत्र में दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातक की डिग्री ली है।