बीमा के नाम पर किसानों से धोखा, वसूले गए 30 करोड़ रूपए

0
15
बीमा के नाम पर किसानों से धोखा, वसूले गए 30 करोड़ रूपए

जयपुर। सहकारी बैंकों से ऋण लेने वाले किसानों के साथ बैंक ने ही धोखाधड़ी कर दी। राजस्थान स्टेट को-ऑपरेटिव (अपेक्स) बैंक ने दुर्घटना बीमा के नाम पर प्रत्येक किसान से 188 रपए ले लिये। करीब 18 लाख किसानों से 30 करोड़ रपए एकत्र कर निजी बीमा कंपनी को थमा दिए। एक साल बाद की स्थिति यह है कि 21 करोड़ के क्लेम किए गए लेकिन बीमा कंपनी ने कोई क्लेम पास नहीं किया।

सरकारी बीमा कंपनी से छीनकर बीमा का यह जिम्मा अपेक्स बैंक ने चुनावी वर्ष में एक निजी कंपनी को दिया था। अब पीड़ित किसान क्लेम के लिए कंपनी और बैंकों के यहां चक्कर लगा रहे हैं। अपेक्स बैंक ऋण लेने वाले किसानों का पहले 50 हजार रपए का बीमा करता था।

गत सरकार ने इसे बढ़ाकर पहले पांच लाख और अंतिम वर्ष में दस लाख रपए कर दिया। बीमा का जिम्मा सरकारी कंपनी को दिया जाता था लेकिन दस लाख का बीमा तय होने के बाद सरकारी कंपनी की बजाय निजी कंपनी को जिम्मा दे दिया। राजस्थान सहकार व्यक्तिगत दुर्घटना बीमा योजना में पहली बार पूरा प्रीमियम किसान से ही लिया गया। प्रति किसान 188 रपए लिये गए। बैंक ने अल्पकालीन फसली ऋण लेने वाले किसानों के लिए 16 अप्रैल 2018 को निजी बीमा कंपनी से समझौता किया। इसमें किसानों का दस लाख तक का बीमा किया गया।

शेयर करें
Avatar
राजेश्वरी रोजगार रथ में पत्रकार के पद पर कार्यरत है। राजेश्वरी ने जनसंचार में स्नातक की पढाई की है। वह इससे पहले हरिभूमि समाचार पत्र के साथ-साथ अन्य स्थानीय समाचार प्रकाशन में काम किया है। अन्य समाचार पत्रों में काम करने के बाद राजेश्वरी वर्ष 2016 से रोजगार रथ में कार्यरत है।