राहत नहीं मिलने से आक्रोशित बाढ़ पीड़ितों ने किया दिल्ली की और रुख

0
33
राहत नहीं मिलने से आक्रोशित बाढ़ पीड़ितों ने किया दिल्ली की और रुख

बाढ़ राहत मिलने में हो रही देरी से पीड़ितों में आक्रोश फूटने लगा है। सदर प्रखंड के कई पंचायतों के करीब पांच सौ लोग दिल्ली मोड़ पर शुक्रवार की सुबह से जुटकर प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी करते हुए दिल्ली मोड़ को जाम कर दिया। चार घंटों तक पीड़ित सड़क पर प्रदर्शन करते रहे। इस बीच पटना, मधुबनी समेत अन्य जगहों के लिए जाने वाली बसें अन्य गाड़ियां वहीं खड़ी रही। इसपर सवार यात्री भीषण गर्मी में बिलबिलाते रहे। बाद में समर्थकों की भी भीड़ बढ़ती चली गई जो जहां सुना वहीं से प्रदर्शन में शामिल होने जुटने लगा। बाढ़ प्रभावित लोगों का कहना था कि आखिर राहत मिलने में इतनी देर क्यों हो रही है।

दरभंगा, मधुबनी, जयनगर, पटना जाने वाली मुख्य सड़क दिल्ली मोड़ पर चार घंटे तक जाम रखने वालों का नेतृत्व कर रहे शिव कुमार शर्मा, कन्हैया यादव, लाल बिहारी यादव, केशरी यादव, डोमू सहनी, परमेशवर सदाय, रत्नेश यादव, आनंद कुमार ने आक्रोशित लहजे में कहा कि आखिर सरकार चुप क्यों बैठी है। गरीब, बच्चे, बुजुर्ग महिला सभी का सामान बाढ़ में बह गया। लोगों के घर उजड़ गए। जो कुछ बचा था सभी पानी में बह गया।

कई लोगों की जान चली गई। लोग दाने-दाने को तरस रहे हैं लेकिन उनकी एक भी नहीं सुनी जा रही है। लोगों के साथ प्रशासन सरकार मजाक कर रही है। उनके लिए राहत की बात तो दूर घर बनाने के लिए पैसे तक नहीं मिल रहे। जाम की जानकारी मिलते ही सदर के अधिकारियों की टीम वहां पहुंचकर वार्ता करने की कोशिश की लेकिन सभी बाढ़ पीड़ित अपनी मांगों पर अड़े रहे। इनका कहना था कि पहले राहत देने की बात करें फिर हमलोग जाम हटाएंगे। सड़क जाम करने वालों में बिजली, सोनकी, कंसी, शहवाजपुर, खुटवाड़ा, वासुदेवपुर के पंचायत समिति सदस्य वार्ड सदस्यों के साथ बाद में करीब एक हजार लोगों की जुटी भीड़ ने प्रदर्शन करते हुए चार घंटे तक सड़क पर जमे रहे।

प्रशासन के खिलाफ जमकर की नारेबाजी
बाढ़प्रभावित लोगों ने राहत के लिए सड़क को जाम रखते हुए प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी करते रहे। सदर प्रखंड के लाल बिहारी यादव ने बताया कि सभी पंचायत बाढ़ मे पूर्ण रूप से प्रभावित हो गया। जिला प्रशासन का इस बात से कोई लेना-देना नहीं है। इस ओर ध्यान देना भी मुनासिब नहीं समझा जा रहा है। इससे पीड़ितों के सामने भुखमरी की नौबत गई है। पशुपालकों के सामने चार का संकट है जिसे देखने वाला कोई नहीं है। बहुत देर के बाद वहां पुलिस स्थानीय प्रशासन के अधिकारियों ने पहुंचकर प्रदर्शनकारी बाढ़ पीड़ितों से वार्ता की। सदर बीडीओ गंगासागर सिंह सीओ राकेश कुमार ने आक्रोशित प्रदर्शनकारियों को अलग से बुलाकर वहीं बातचीत करते हुए तत्काल राहत वितरण कार्य करने का आश्वासन दिया। दोनों अधिकारियों ने कहा कि सभी बाढ़ प्रभावित लोगों को राहत मिलेगा। तब जाकर जाम हटाया गया।

लोगों ने तीन दिनों का दिया अल्टीमेटम
इधर,जाम से चार घंटे तक भीषण धूप उमस भरी गर्मी में बस समेत अन्य वाहनों पर बैठे लोग हलकान बने रहे। खासकर, छोटे बच्चे महिलाओं की स्थिति काफी विकट बनी हुई थी। सभी पानी के लिए तरस रहे थे। वहीं, युवा वर्ग के लोग कोई बस पर बैठा था तो कोई बस से उतरकर जाम का नजारा देखकर अपने परिजनों को सूचना दे रहे थे। जाम लगने के कारण यात्रियों को काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ा। वहीं, प्रदर्शन सड़क जाम का नेतृत्व कर रहे शिव कुमार शर्मा ने कहा कि अगर तीन दिनों के भीतर प्रशासन की ओर से राहत वितरण कार्य नहीं किया गया तो फिर से दिल्ली मोड़ को जाम करते हुए आंदोलन तेज कर देंगे।

शेयर करें
Vikas das
विकास ने वर्ष 2014 से टीवी रिपोर्ट के रूप में काम करना शुरू किया था। उसके बाद उन्होंने कई समाचार चैनल और समाचार वेबसाइट में काम किया। उसके बाद वर्ष 2016 में विकास ने रोजगार रथ में वरिष्ठ संपादक के रूप में काम करना शुरू किया।