0
422
CNN

पहली बार ब्लैक होल की तस्वीर लेने में कामयाब हुए

खगोलशास्त्रियों का कहना है कि पहली बार वह ब्लैक होल की तस्वीर लेने में कामयाब हुए हैं। हवाई से लेकर अलर्कटिका और सैन मैं टेलिस्कोप्स का जाल बिछाकर लगातार पांच रातों तक अंतरिक्ष में नजर रखने के बाद खगोलशास्त्रियों को यह सफलता मिली है। जो तस्वीर मिली है, उसे डिवेलप करने में महीनों का समय लगेगा।

लेकिन अगर वैज्ञानिक इस काम में सफल रहते हैं, तो उन्हें इस ब्रह्मांड के निर्माण से जुड़े रहस्य को समझने में काफी मदद मिलेगी। अगर उनकी यह कोशिश रंग लाती है, तो ब्रह्मांड किस चीज से बना और कैसे अस्तित्व में आया जैसे अहम रहस्यों को सुलझाने में भी बहुत मदद मिलेगी।
इंटरनेशनल रिसर्च इंस्टिटयूट फॉर रेडियो ऐस्ट्रोनॉमी में खगोलशास्त्री माइकल ब्रिमर ने बताया, ‘इतना बडा टेलिस्कोप बनाना कि वह खुद अपने
भारी वन में ठबकर पस्त हो जाए.

इसकी जगह हमने 8 वेधशालाओं को एकसाथ इस तरह जोड़ा जैसे कि किसी विशाल शीशे के टुकड़ों को आपस में जोड़ते हैं। ऐसा करके हमें एक ऐसा आभासी टेलिस्कोप मिला, जो कि आकार में करीब-करीब धरती जितना ही बड़ा है। इसका व्यास करीब 10,000 किलोमीटर है।’ यह वर्चुअल टेलिस्कोप इतना ताकतवर है कि चांद की सतह पर पड़ी एक गोल्फ बॉल को भी देख सकता है। ब्रिड्मर ने कहा, ‘इतिहास में यह पहला मौका है जब हमारे पास एक ऐसी तकनीक है जिसकी मदद से हम ब्लेक होल को विस्तार और बारीकी से देख सकते हैं।’

उतने ही स्पष्टता से उसमें चीजें देखी जा सकती हैं। इससे ली गई तस्वीरों का रेजॉलूशन भी काफी स्पष्ट होता है। जिस ब्लेक होल को वैज्ञानिक देखने की कोशिश कर रहे हैं, वह आकार में काफी बड़ा है। यह ब्लेक होल हमारी अपनी आकाशगंगा ‘मिल्की वे’ के बीचोबीच है। यह ब्लैक होल धरती से करीब 26,000 प्रकाश वर्ष की दूरी पर है। 1 प्रकाश वर्ष लगभग 15 करोड़ किलोमीटर जितना होता है।

यह ब्लैक होल सैजिटेरियस ए के पास है। इसका वजन 40 लाख सूर्यों के बराबर है। इसकी गुरुत्वाकर्षण क्षमता बहुत ज्यादा है और यह आसपास के सारे पिडों को अपनी ओर खींचकर सोख लेता है। ब्लैक होल की गुरुत्वीय क्षमता इतनी ज्यादा होती है कि वह ग्रहों सहित अपने आसपास आने वाले किसी भी पदार्थ या पिंड को खुद में सोख लेता है।

शेयर करें
Rashmi shah
रश्मी शाह रोजगार रथ में सहायक संपादक है। इससे पहले इन्होंने आजतक अखबार के लिए उप संपादक का काम किया है। हरीभूमी अख़बार में लेखन का काम भी किया है। रश्मी ने मीडिया प्रबंधन के क्षेत्र में दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातक की डिग्री ली है।