कम टर्नओवर दिखाना पड़ सकता है भारी, इनकम टैक्स करेगा कार्रवाई

0
8
कम टर्नओवर दिखाना पड़ सकता है भारी, इनकम टैक्स करेगा कार्रवाई

वाराणसी । अब व्यापारियों द्वारा कम टर्नओवर दिखाकर विक्रय रिटर्न दाखिल करना भारी पड़ सकता है। व्यापारियों द्वारा दाखिल किए गए रिटर्न की वाणिज्य कर (राज्य कर) विभाग हर जोन में जांच कराएगा। धोखाधड़ी की पुष्टि होने पर व्यापारियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। गुड्स एंड सर्विस टैक्स (जीएसटी) लागू होने के बाद से विभाग को अनुमान के मुताबिक राजस्व नहीं मिल रहा है। यही नहीं सभी व्यापारी रिटर्न भी समय से दाखिल नहीं कर रहे हैं। इसे देखते हुए आयुक्त वाणिज्य/राज्य कर ने अधिकारियों को राजस्व वसूली में तेजी लाने का निर्देश दिया है।

साथ ही कर चोरी करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने को कहा है।गत वर्ष के बड़े करदाताओं के वर्तमान दाखिल रिटर्न की जांच उनके द्वारा जमा किए गए राजस्व के आधार पर कराने को कहा है। मुख्यालय के आदेश के बाद वाणिज्यकर विभाग के अफसरों ने बड़े बकाएदारों के खिलाफ अभियान चलाकर राजस्व की वसूली करेंगे। इसके लिए विभाग के एडिशनल कमिश्नर ग्रेड-1 एसपी वर्मा ने जोन के अधिकारियों को निर्देशित किया है।

पूर्व के अभियान में हुई लापरवाही :

आयुक्त वाणिज्य/राज्यकर ने हर जोन में व्यापारियों के रिटर्न की जांच की ताकीद की है। गड़बड़ी मिलने पर विशेष अनुसंधान शाखा इकाई से जांच कराने को कहा है। विभागीय अधिकारियों के अनुसार आदेश में कहा गया है कि नवंबर व दिसंबर में बकाया वसूली के लिए चले अभियान में नीलामी, कुर्की, गिरफ्तारी व बैंक खाता सीज कराने की कार्रवाई में लापरवाही बरती गई। मुख्यालय ने अभियान चलाकर राजस्व वसूली करने का निर्देश दिया है।

सचल दल रोज जांचेंगे वाहन :

राजस्व वसूली के लिए प्रत्येक सचल दल इकाई रोजाना कम से कम बीस वाहनों की जांच जरूर करेगा। इसके लिए टीम का गठन किया गया है। टीम अलग-अलग क्षेत्रों में मुहिम चलाकर वाहनों की जांच करेंगे। हर माह कम से कम पांच सौ बिलों को एकत्र कर जांच कराई जाएगी। राजस्व वसूली बढ़ाने के लिए अभियान में और तेजी लाने का भी निर्देश दिया गया है।

SHARE