रैली में आए किसान की संदिग्ध हालात में गिरकर मौत

0
33
रैली में आए किसान की संदिग्ध हालात में गिरकर मौत

नई दिल्ली। जांच में पुलिस घटना को हादसा बता रही है अभी यह स्पष्ट नहीं हो सका कि यह हादसा है या खुदकुशी
किसान रैली में महाराष्ट्र से आए एक किसान की अंबेडकर भवन की तीसरी मंजिल से गिरकर संदिग्ध हालात में मौत हो गई। मृतक की शिनाख्त कोल्हापुर निवासी किरण शांताराम गाउरवाड़े (52) के तौर पर की गई और पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के बाद मृतक के साथ आए किसानों को सौंप दिया है।

सूत्रों ने बताया कि शनिवार तड़के अंबेडकर भवन प्रशासन ने मामले की सूचना स्थानीय पुलिस को दी। जिसके बाद मामले से मृतक के परिजनों को भी अवगत करा दिया गया है। बाद में मृत किसान का शव लेकर उनके साथी व परिजन महाराष्ट्र रवाना हो गए। शुरुआती जांच के बाद पुलिस किसान की मौत को हादसा बता रही है। पुलिस का कहना है कि तीसरी मंजिल की रैलिंग से गिरकर किसान की मौत हुई है और इसके लिए कोई दोषी नहीं है। हालांकि अभी तक की जांच में यह स्पष्ट नहीं है कि किसान किरण ने खुदकुशी की या फिर वह किसी हादसे के शिकार हुए थे।

पुलिस सूत्रों ने बताया कि किरण शांताराम गाउरवाड़े अपने परिवार के साथ गांव सैनिक तकड़ी वाड़ी, कोल्हापुर, महाराष्ट्र में रहता था। उसके परिवार में माता-पिता के अलावा पत्नी एक बेटा व बेटी है। किरण का बेटा एमटेक किए हुए है जबकि वह फिलहाल पिता के साथ ही खेती करता है। बृहस्पतिवार रात करीब दो बजे किरण बाकी किसानों के साथ दिल्ली पहुंचा था। शुक्रवार को उसे किसान रैली में शामिल होना था। इसके लिए वह अपने दो गांव के लोगों के साथ पहाड़गंज के रानी झांसी रोड पर मौजूद अंबेडकर भवन में रु क गया।

यहां महाराष्ट्र व हरियाणा के कई सौ किसान रु के हुए थे। किरण भवन की तीसरी मंजिल पर कमरा नंबर-29 में रु का हुआ था। इस बीच रात करीब सवा तीन बजे वहां मौजूद लोगों ने किसी के गिरने की अचानक आवाज सुनी। इस पर अंबेडकर भवन में रुके किसानों में अफरी-तफरी मच गई। मामले की सूचना पुलिस को दी गई। मौके पर पहुंची पुलिस ने पाया कि किरण शांता रात कमरे के बाहर तीसरी मंजिल से नीचे बरामदे में गिरा हुआ था। पुलिस ने खून से लथपथ किरण को लेडी हार्डिंग अस्पताल पहुंचाया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

पुलिस ने प्रारभिंक जांच में इसे महज हादसा बताया, जबकि कोलापुर से आए किसान महावीर चिन्नाप्पा चौगुले ने बताया कि किरण ने कर्जे की वजह से आत्महत्या कर ली है। महावीर का कहना है कि जहां से किरण नीचे गिरे वहां की रैलिंग करीब चार-साढ़े चार फुट है। ऐसे में हादसे की आशंका नहीं है। पुलिस फिलहाल किसान की आत्महत्या की बात से इनकार कर रही है। किसान का विसरा जांच के लिए भेज दिया गया है। पुलिस उपायुक्त अतिरिक्त अमित शर्मा का कहना है कि प्रारभिंक जांच के बाद अंबेडकर भवन में हुई किसान की मौत महज एक हादसा है, इसके लिए कोई जिम्मेदार भी नही है, शव पोस्टमार्टम के बाद गांव के किसानों को सौंप दिया गया है। मामले की प्रत्येक एंगल से जांच की जा रही है।

शेयर करें
Avatar
नियामत खान रोजगार रथ में संवाददाता के पद पर कार्यरत है। नियामत खान ने दिल्ली विश्वविद्यालय से पत्रकारिता के क्षेत्र में स्नातक की हासिल की है। नियामत खान को पत्रकारिता के क्षेत्र में काफी अच्छा अनुभव है। नियामत खान की लेखन, पत्रकारिता, संगीत सुनना में रुची है।