सरकार के गठन के ढाई महीने में ही डेवलपमेंट वर्क बंद

0
313

कांग्रेसके सत्ता में आते ही डेवलपमेंट को नजर लग गई है। विपक्ष में रह कर कांग्रेस ने डेवलपमेंट के बड़े-बड़े दावे किए थे लेकिन सरकार के गठन के ढाई महीने में ही चल रहे डेवलपमेंट वर्क बंद हो गए हैं और शुरू होने वाले काम रिव्यू के लिए सरकार ने राेक लिए हैं।

मेयर सुनील ज्योति ने मीटिंग बुलाने पर पहल की है तो कांग्रेस भी झुकती दिख रही है। कांग्रेस पार्षद दल के नेता जगदीश राज राजा ने कहा कि वह मीटिंग में सहयोग के लिए तैयार हैं। काम ठप होने का सबसे ज्यादा असर सड़कों के काम पर पड़ा है। कांग्रेस ने शोरशराबा करके नगर निगम बजट पास नहीं होने दिया।

सरकार ने कमिटेड खर्च का 333 करोड़ का बजट तो पास कर दिया लेकिन डेवलपमेंट का करीब 225 करोड़ रुपये का बजट पास नहीं किया है। इसके लिए हाउस की मीटिंग जरूरी है। पीआईडीबी की ग्रांट के 25 करोड़ के सड़कों के काम रोके गए हैं। सबसे बड़ा प्रोजेक्ट स्मार्ट सिटी का है, जिसके प्रोजेक्ट मैनेजमेंट कंसल्टेंट को मंजूरी नहीं दी जा रही है।

18 करोड़ का सिटी ब्यूटीफिकेशन प्रोजेक्ट रुका हुआ है। 80 करोड़ से फोलड़ीवाल ट्रीटमेंट प्लांट की अपग्रेडेशन का टेंडर नहीं लगाया जा रहा। डेवलपमेंट रुकने से कांग्रेसी भी परेशान हैं और पब्लिक को जवाब देना मुश्किल हो रहा है। चुनाव में यह जवाबदेही और बढ़ेगी।

शेयर करें
Mukesh Srivastava
मुकेश श्रीवास्तव रोजगार रथ में संपादक के पद पर कार्यरत है। रोजगार रथ में मुकेश खेल जगत से जुडी खबरे लिखते है। वह कई न्यूज़ वेबसाइट के लिए काम कर चुके है। मुकेश ने अपनी पढाई NIT कॉलेज से पूरी की है। NIT से पढाई पूरी करने के बाद उन्होंने न्यूज़ वेबसाइट के लिए काम करना शुरू किया।