नो-इंट्री में प्रवेश करने के लिए डीसीएम चालक ने की वसूली

0
6
नो-इंट्री में प्रवेश करने के लिए डीसीएम चालक ने की वसूली

सरोजनीनगर-लखनऊ। बंथरा के जुनाबगंज तिराहे पर सालों से चल रही पुलिस की वसूली का खेल आखिरकार सामने आ गया। एसएसपी के आदेश पर बुधवार को ट्रेनी आईपीएस अभिषेक वर्मा ने टीम के साथ जुनाबगंज तिराहे पर डेरा डाला। एक डीसीएम चालक से वसूली करते बंथरा थाने के चार पुलिसकर्मियों का वीडियो टीम ने बनाया। टीम ने उन्हें पकड़ने की कोशिश की लेकिन वे भाग निकले।

ट्रेनी आईपीएस ने बंथरा थाने में सभी पुलिसकर्मिंयों को खड़ाकर शिनाख्त परेड करायी, जिसमें चारों पुलिसकर्मी पहचान लिए गये। एसएसपी कलानिधि नैथानी ने हेड कांस्टेबिल विमलेश कुमार, कांस्टेबिल धीरज कुमार, कांस्टेबिल विपिन पाण्डेय व कांस्टेबिल विनोद कुमार को निलम्बित कर विभागीय जांच के आदेश दिये हैं।बंथरा के जुनाबगंज तिराहे पर पुलिस की बैरिकेडिंग है। कानपुर की तरफ से आने वाले भारी वाहनों को सुबह आठ से शाम आठ बजे तक नो-इंट्री रहती है लेकिन यहां तैनात पुलिसकर्मी चंद रुपयों के लालच में इमान बेचकर भारी वाहनों को नो-इंट्री दे देते हैं।

जुनाबगंज तिराहे पर पुलिस की वसूली की शिकायतें लगातार अधिकारियों के पास आ रही थी। ट्रेनी आईपीएस अभिषेक वर्मा बुधवार दोपहर अपनी टीम के साथ जुनाबगंज तिराहे के पास पहुंचे। टीम के सभी पुलिसकर्मी सादे कपड़ों में थे। इसी दौरान कानपुर की ओर से आ रहे एक डीसीएम को बैरिकेडिंग पर मौजूद बंथरा थाने के चार सिपाहियों ने हाथ देकर रोका। चालक ने जरूरी काम बताते हुए प्रवेश देने की बात कही तो पुलिसकर्मियों ने वसूली मांगी। यह सुनकर चालक ने नोट निकाला और सिपाही के हाथ में थमा दिया।

इस दौरान ट्रेनी आईपीएस की टीम के पुलिसकर्मी वीडियो बनाते रहे। वीडियो में वसूली की पुष्टि होने के बाद जैसे ही ट्रेनी आईपीएस टीम के साथ रंगेहाथ दबोचने के लिए बढ़े। अफसर को सामने से आता देख वसूली में लिप्त चारों सिपाही बैरिकेडिंग छोड़कर भागने लगे। इसके बाद जांच टीम डीसीएम चालक को लेकर बंथरा थाने पहुंची। ट्रेनी आईपीएस ने इंस्पेक्टर विजयसेन सिंह को तत्काल पूरा स्टॉफ बुलाने का आदेश दिया। थाने में पूरे स्टॉफ की शिनाख्त परेड करायी गयी, जिसमें आरोपित पुलिसकर्मियों की पहचान हेड कांस्टेबिल विमलेश कुमार, कांस्टेबिल धीरज कुमार, कांस्टेबिल विपिन पाण्डेय व कांस्टेबिल विनोद कुमार के रूप में हुई।

नो-इंट्री को कड़ाई से करें लागू : एसएसपी ने सीमा से सटे सभी थानों प्रभारियों को नो-इंट्री को कड़ाई से लागू करने के निर्देश दिये है। साथ ही जारी परमिटों की पुन: समीक्षा के आदेश भी दिये गये हैं।

एडीजी ने भी कसा था वैिक पर बच निकला था कारखास : पहले भी वसूली की शिकायत एडीजी लखनऊ जोन राजीव कृष्ण को मिली थी। उन्होंने इंस्पेक्टर नागेन्द्र चौबे के नेतृत्व में एक टीम तैयार की। उक्त टीम ने जुनाबगंज तिराहे पर दौड़ाकर दो सिपाहियों को रंगेहाथ वसूली करते पकड़ा था, जबकि एक भाग निकला था। उक्त मामले में बंथरा थाने में मुकदमा दर्ज कर दो सिपाहियों को जेल भी भेजा गया था। पूर्व में हुई इस कार्रवाई में तत्कालीन एसओ बलवंत शाही का कारखास बचकर भाग निकला था। वसूलीबाज सिपाही दोषी मिला था लेकिन जुगाड़ के बल पर फाइल को दबा दिया।

शेयर करें
Shivani Jain
शिवानी रोजगार रथ में रिपोर्ट है। शिवानी ने राजनीति, बिजनेस और अन्य न्यूज़ से संबंधित कई न्यूज़ लिखी है। उन्होंने वर्ष 2014 से रिपोर्टिंग शुरू की थी। दो साल के बाद शिवानी ने वर्ष 2016 से रोजगार रथ में काम करना शुरू किया।