राहुल गांधी के आवास के समक्ष कांग्रेसियों का प्रदर्शन, इस्तीफा वापस लेने की मांग

0
5
राहुल गांधी के आवास के समक्ष कांग्रेसियों का प्रदर्शन, इस्तीफा वापस लेने की मांग

नई दिल्ली| कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के इस्तीफे की पेशकश के खिलाफ डीपीसीसी नेताओं-कार्यकर्ताओं ने उनके आवास के समक्ष प्रदर्शन किया, और ‘राहुलजी इस्तीफा वापस लो’ के नारे लगाए। प्रदर्शन की अगुवाई दिल्ली की तीन बार मुख्यमंत्री रहीं और दिल्ली कांग्रेस इकाई की अध्यक्ष शीला दीक्षित, दिल्ली के पूर्व मंत्री हारून युसूफ, पूर्व केंद्रीय मंत्री जगदीश टायटलर और बॉक्सर विजेंदर सिंह ने की। पूर्व विधायक जयकिशन ने कार्यकर्ताओं के साथ अनिश्चितकालीन अनशन पर बैठने का प्रयास किया, लेकिन तुगलकरोड थाने की पुलिस उन्हें वहां से उठाकर थाने ले गई और कुछ देर बाद छोड़ दिया।

राजेश लिलोठिया ने कहा कि सभी कार्यकर्ता चाहते हैं कि राहुल अपने फैसले को वापस लें। दक्षिणी दिल्ली लोकसभा सीट से कांग्रेस उम्मीदवार रहे विजेंद्रं ने कहा कि राहुल गांधी को अध्यक्ष पद पर बने रहना चाहिए। उन्होंने कहा कि चुनाव में हम लड़े और हम सफल नहीं हुए। आगे हमें संघर्ष करना है। पूर्व विधायक जयकिशन ने कहा कि भाजपा ने सरकारी तंत्र का दुरुपयोग कर चुनाव में जीत हासिल की है। कांग्रेस कभी खत्म नहीं होने वाली पार्टी है।

नेहरू-गांधी परिवार ने देश के लिए कुर्वानी दी है। राहुल गांधी के प्रति कार्यकर्ताओं में विास है। उन्होंने राहुल गांधी से अपील करते हुए कहा है कि सांप्रदायिक ताकतों से लड़ने के लिए वह अपने फैसले पर पुनर्विचार करें। प्रदर्शन में दिल्ली प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष शीला दीक्षित, कार्यकारी अध्यक्ष राजेश लिलोठिया, पूर्व केंद्रीय मंत्री जगदीश टाइटलर, पूर्व विधायक जयकिशन, दक्षिणी दिल्ली से पार्टी के लोकसभा उम्मीदवार रहे बाक्सर बिजेंदर सिंह सहित तमाम पूर्व विधायक व कार्यकर्ता शामिल हुए।

सरकारी मुख्य सचेतक महेश जोशी ने बताया कि प्रदेश कार्यकारिणी के सभी सदस्यों ने राहुल गांधी के नेतृत्व में विश्वास जताते हुए सीडब्ल्यूसी के प्रस्ताव का समर्थन किया है। राजस्थान की 25 लोकसभा सीटों के चुनाव परिणाम के बाद सत्ताधारी पार्टी की यह पहली बैठक है। राज्य की 25 लोकसभा सीटों में से पार्टी एक भी सीट पर जीत दर्ज नहीं कर पाई।