रेलवे स्टेशनों पर आपराधिक घटनाओं को रोकने के लिए लगाए जाएंगे सीसीटीवी कैमरे

0
4
रेलवे स्टेशनों पर आपराधिक घटनाओं को रोकने के लिए लगाए जाएंगे सीसीटीवी कैमरे

देहरादून। रेलवे स्टेशनों में होने वाली आपराधिक घटनाओं के मद्देनजर सुरक्षा के लिहाज से जल्दी ही यहां सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे। इसके अलावा महिलाओं की सुरक्षा को लेकर रेलवे स्टेशनों पर सादी वर्दी में पुलिसकर्मी तैनात किए जाएंगे। शुक्रवार को पुलिस महानिदेशक अनिल के रतूड़ी द्वारा राज्य रेलवे सुरक्षा व्यवस्था समिति की एक बैठक में यह निर्णय लिए गए। इस दौरान समीक्षा में बेहतर स्थिति भी सामने आई। बैठक में डीजी लॉ एंड आर्डर अशोक कुमार ने बताया कि पूर्व में ट्रेनों पर हुई पत्थरबाजी की 20 घटनाओं पर जीआरपी और आरपीएफ की संयुक्त कार्यवाही में 23 असामाजिक तत्वों को गिरफ्तार किया गया, जिससे ऐसी घटनाओं में कमी आई। वर्ष 2018 में ट्रेनों/ प्लेटफार्मों से बच्चों की तस्करी/ उत्पीड़न पर रोकथाम की कार्यवाही करते हुए कुल 228 बच्चों को बरामद किया गया।

पिछले 3 वर्ष में जीआरपी उत्तराखंड के अन्तर्गत रेलवे स्टेशन/ रेलवे ट्रेकों से छेड़छाड़ की कोई भी आपराधिक घटना प्रकाश में नहीं आई। बैठक में विभिन्न सुरक्षा व प्रशासनिक बिन्दुओं पर विचार विर्मश करते हुए महत्वपूर्ण निर्णय लिये गए। इस दौरान जीआरपी द्वारा देहरादून रेलवे स्टेशन में सीसीटीवी स्थापित किये जाने के प्रस्ताव पर आरपीएफ ने आश्वासन दिया गया। रेलवे स्टेशनों की सुरक्षा केलिए श्वान दल और बम निरोधक दस्ते की सहायता से सघन चेकिंग की जायेगी, कोटद्वार में अस्थायी जीआरपी पुलिस चौकी खोले जाने का भी निर्णय बैठक में लिया गया। रेलवे स्टेशनों/ट्रेनों में टप्पेबाजी, जहरखुरानी गतिविधियों में सक्रिय और पेशेवर अपराधियों का चिन्हीकरण कर उनकी सूची का अदान-प्रदान कर उनके खिलाफ कार्यवाही की जाएगी। जंगली जानवरों के रेलवे ट्रैकों पर आने की सम्भावना को देखते हुए 8 स्थानों में वन विभाग एवं टाइगर र्जिव देहरादून द्वारा कोरिडोर बनाये गए हैं, जिससे जानवर ट्रेकों पर न फसें और ट्रेनों का आवागमन सुचारु रह सके।

रेलवे स्टेशनों पर लगे सीसीटीवी कैमरों का परीक्षण कर खराब कैमरों को सही कराया जाए और उनका रख-रखाव सुनिश्चित किया जाए।रेलवे स्टेशनों/ रेलवे ट्रेकों की सुरक्षा के लिए आरपीएफ, जीआरपी एवं स्थानीय पुलिस रेलवे स्टेशनों पर सयुंक्त चेकिंग के साथ-साथ पैदल व पुश ट्रॉली द्वारा रेलवे ट्रेकों का भी निरीक्षण करेगी। बैठक में निर्देश दिए गए कि निकटस्थ गांवों के चौकीदारों/ग्राम सुरक्षा समिति के साथ गोष्ठी आयोजित की जाए। जीआरपी और आरपीएफ समन्वय स्थापित कर आपस में आपराधिक तत्वों एवं महत्वपूर्ण सूचनाओ के अदान-प्रदान को व्हटसअप ग्रुप बनाए। बैठक में वी विनय कुमार (अपर पुलिस महानिदेशक प्रशासन/अभिसूचना/सुरक्षा), संजय गुंज्याल ( पुलिस महानिरीक्षक पी/एम), एपी अंशुमान (पुलिस महानिरीक्षक पीएसी), राजा राम (मुख्य सुरक्षा आयुक्त पूर्वोत्तर रेलवे), संजय सांत्यान (मुख्य सुरक्षा आयुक्त रेलवे सुरक्षा बोर्ड उत्तर रेलवे) , हिमांशु उप वन संरक्षक ( राजाजी टाईगर र्जिव), जगत राम जोशी (पुलिस उपमहानिरीक्षक कार्मिक), रोशन लाल शर्मा आदि मौजूद थे।