मुंबई में शुक्रवार को भी जारी रही बेस्ट बस कर्मियों की हड़ताल

0
19
मुंबई में शुक्रवार को भी जारी रही बेस्ट बस कर्मियों की हड़ताल

मुंबई| मुंबई में शुक्रवार को बेस्ट बस कर्मियों की हड़ताल चौथे दिन भी जारी रही। जिसके कारण यात्रियों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ा| निकाय चालित इस परिवहन व्यवस्था के प्रबंधन और कर्मियों के बीच गतिरोध की स्थिति बनी हुई है। इस हड़ताल के चलते यात्रियों को एक जगह से दूसरी जगह पर जाने के लिए खासी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है| लाखों यात्रियों को ऑटोरिक्शा, टैक्सी का सहारा लेना पड़ रहा है और इतनी बड़ी संख्या में सेवा में लगाई गई निजी बसें यात्रियों को सेवा देने के लिए पर्याप्त नहीं साबित हो रही है। यात्रियों ने शिकायत की है कि ऑटो-रिक्शा और टैक्सी चालक सामान्य दरों के मुकाबले बहुत अधिक पैसे ले रहे हैं। कुछ परेशान यात्रियों ने महाराष्ट्र सरकार से विरोध प्रदर्शन को समाप्त करने के लिए आवश्यक कदम उठाने की अपील की है। बेस्ट के एक वरिष्ठ अधिकारी ने गतिरोध के जल्द समाप्त होने की उम्मीद जताई है।

यह दशक का बेस्ट का सबसे लंबा चलने वाला चलने वाली हड़ताल है इसके पहले 1997में बेस्ट की हड़ताल 3 दिन तक चली थी । ऐसा नहीं कि प्रशासन की तरफ से हड़ताल को सुलझाने की कोशिश नहीं की गई है लेकिन यूनियन का आरोप है कि उनकी मांगों को नजरंदाज किया जा रहा है। गुरुवार को उद्धव ठाकरे ने इस मामले में एक मीटिंग आयोजित की थी जिसमें बीएमसी कमिश्नर अजय मेहता, अन्य अधिकारी और बेस्ट कृति समिति के सदस्य शामिल थे। मीटिंग लगातार 7 घंटे चली लेकिन यूनियन लीडर शशांक राव ने कहा  बीएमसी प्रशासन उनकी मांगों को लेकर गंभीर नहीं दिखाई दे रहा है जिसमें इसके चलते हड़ताल चल रही है।

यदि आज भी कोई हल नहीं निकलता तो मुंबईकरों की तकलीफें और भी बढ़ सकती हैं ।बेस्ट बसों की हड़ताल को देखते हुए अब लोगों की नजरें हड़ताल के खिलाफ बंबई उच्च न्यायालय में डाली गई याचिका पर केंद्रित है। बेस्ट के करीब 32,000 से ज्यादा कर्मचारी मंगलवार को अपनी कई मांगों की पूर्ति के लिए हड़ताल पर चले गए थे। वह वेतन बढ़ाने, बेस्ट और बीएमसी के बजट को साथ करने की मांग कर रहे हैं। राज्य सरकार ने हड़ताल कर रहे कर्मचारियों के खिलाफ तत्काल महाराष्ट्र आवश्यक सेवा प्रबंधन अधिनियम (एमईएसएमए) लगाया। साथ ही ‘बेस्ट’ के प्रबंधन ने उन्हें अपनी हड़ताल खत्म करने और बातचीत के लिए आने की अपील की है।

 

शेयर करें
Avatar
शिवानी रोजगार रथ में रिपोर्ट है। शिवानी ने राजनीति, बिजनेस और अन्य न्यूज़ से संबंधित कई न्यूज़ लिखी है। उन्होंने वर्ष 2014 से रिपोर्टिंग शुरू की थी। दो साल के बाद शिवानी ने वर्ष 2016 से रोजगार रथ में काम करना शुरू किया।