डॉक्टर्स के मुताबिक देश में थोरैसिक सर्जन की पर्याप्त कमी है |

0
37
डॉक्टर्स के मुताबिक देश में थोरैसिक सर्जन की पर्याप्त कमी है |
डॉक्टर्स के मुताबिक देश में थोरैसिक सर्जन की पर्याप्त कमी है |

इंदौर | अधिक लंबे समय तक खांसी होने पर ज्यादातर लोगों का सबसे पहले ध्यान टीबी की बीमारी की तरफ पड़ता है बल्कि छाती के कैंसर के लक्षण भी एकदम टीबी की बीमारी जैसे ही होते हैं इसलिए हर व्यक्ति को ध्यान रखना चाहिए कि 3 सप्ताह से अधिक खांसी चलती है तो टीबी की बीमारी के साथ में चेस्ट के कैंसर की बीमारी की भी जांच करवानी चाहिए |

रविवार के दिन को एक प्राइवेट होटल में हुई भारत के थोरैसिक संवहनी सर्जन की 16वीं वार्षिक सभा में यह महत्वपूर्ण जानकारी दिल्ली से पधारे हुए इस संस्था के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉक्टर एसके जैन द्वारा बताई गई राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉक्टर एसके जैन ने बताया कि इस प्रकार की कॉन्फ्रेंस के मुताबिक हम डॉक्टर्स तथा सर्जन मैं जागरूकता उत्पन्न करना चाहते हैं |

व्यक्ति छह माह तक टीबी की बीमारी का इलाज करवाते रहते हैं तथा इसके दौरान उनकी छाती का कैंसर अंतिम स्टेज पर चला जाता है इस समय तक हम 3 से 5% मरीजों में ही कैंसर जैसी बीमारी की सर्जरी कर रहे हैं अगर इसके बारे में लोगों में जागरूकता पैदा हो जाती है तो यह आंकड़ा 70 से 80 फीसदी तक पहुंच सकता है इस हेतु आम लोगों को भी जागरूक होना आवश्यक है |

भारत के थोरैसिक संवहनी सर्जन की कॉन्फ्रेंस में विशेषज्ञों डॉक्टरों ने बताया कि टीवी की बीमारी और छाती के कैंसर के लक्षण एक जैसे होते हैं कॉन्फ्रेंस के अंतर्गत 10 विशेषज्ञ ने अपने अनुभव पूरे देश से पधारे हुए 200 से ज्यादा डेलीगेट्स से साझा किया राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉक्टर एसके जैन ने कहा कि हमारे देश में थोरैसिक सर्जन की पर्याप्त कमी है |

शेयर करें
Avatar
ऋषीश पांडे रोजगार रथ में वरिष्ठ संपादक है। वे पहले समाचार प्रभात में संवाददाता का काम भी कर चुके है। ऋषीश पांडे ने इंदौर स्टेट यूनिवर्सिटी से पत्रकारिता और आधुनिक यूनानी अध्ययन में मास्टर डिग्री की है। संवाददाता के क्षेत्र में उन्हें काफी अच्छा अनुभव है।