चुनाव आयोग : 800 से अधिक प्राथमिक विद्यालयों में बनाए जायेगे मतदान केंद्र

0
11
चुनाव आयोग : 800 से अधिक प्राथमिक विद्यालयों में बनाए जायेगे मतदान केंद्र

वाराणसी। लोकसभा चुनाव की तारीखों  का एलान हो चुका है , इसके चलते लोक चुनाव आयोग जिले के 800 से अधिक प्राथमिक विद्यालयों में मतदान कराना चाहता है,लेकिन अबतक सिर्फ 5 विद्यालयों की चारदीवारी के निर्माण के लिए 27 लाख की राशि जारी की है। वही हकीकत यह भी है कि अब तक चारदीवारी निर्माण कार्य आरंभ नहीं किया गया है। जबकि चुनाव आयोग की घोषित बुनियादी सुविधाओं में मतदान केन्द्र परिसर में बिजली, पानी, शाौचालय , रैम्प के साथ वीवीपैट मशीनों को सुरक्षित रखने की व्यवस्था आदि शामिल है।

जानकारी के लिए बता दे कि आम चुनाव की तैयारी अचानक शुरू नहीं की जाती है। इसकी तैयारी कम से कम एक साल पहले ही आरंभ कर दी जाती है। अधिकारियों का कहना है कि चुनाव आयोग इस काम में हमेशा ही जुटा रहता है। आम चुनाव देश और जनता की तकदीर और तदबीर को अगले पांच साल के लिए निर्धारित करते हैं। यह पहली बार नहीं है कि जिले के दर्जनों प्राइमरी स्कूलों को मतदान केन्द्र बनाया जा रहा है। 2014 में भी कमोवेश इतनी संख्या में ही प्राइमरी और उच्च प्राइमरी विद्यालयों को मतदान केन्द्र बनाया गया था। इसबार भी चुनाव आयोग के निर्देशानुसार 800 से कुछ अधिक स्कूलों को मतदान केन्द्र में तब्दील किया जाएगा।

स्कूलों में बुनियादी सुविधाओं की व्यवस्था और सुरक्षा के दृष्टिकोण से चारदीवारी के निर्माण के लिए चुनाव आयोग पांच चिन्हित स्कूलों में चारदीवारी के निर्माण के लिए 27 लाख की धनराशि जारी कर चुका है। वही सूत्रों का कहना है कि कुछ और स्कूलों की बुनियादी सुविधाओं और जर्जर चारदीवारी निर्माण का प्रस्ताव तैयार कर शासन के माध्यम से चुनाव आयोग के संज्ञान में भेजा जा सकता है।

मतदान केन्द्र बनाने का निर्णय रातोंरात नहीं किया जाता है। इसके लिए जिलाधिकारी के नेतृत्व में गठित विशेष टीम स्कूलों का मुआयना करती है। इसमें कई स्कूलों को सवंवेदनशील भी माना जाता है। वही चुनाव आयोग ने स्पष्ट कर दिया है कि 2019 के चुनाव में ईवीएम के साथ शतप्रतिशत वीवीपैट का उपयोग किया जाएगा। इस आधार पर तय हो जाएगा कि मतदान केन्द्रों पर अधिकारी , सुरक्षाकर्मी ईवीएम मशीनें पहले ही पहुंच जाएंगी। इस लिए आवश्यक है कि मतदान केन्द्र परिसर में बिजली, पानी , शाौचालय , रैम्प के साथ पुरु ष और महिलाओं के लिए अलग- अलग सुरक्षित मतदान कक्ष के साथ प्रतिक्षा कक्ष की भी समुचित व्यवस्था उपलब्ध हो।